|| ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवी- तुवरण्यम भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचो- दयात् || ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवी- तुवरण्यम भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचो- दयात् || ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवी- तुवरण्यम भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचो- दयात् ||
Top

Welcome To Gurukul Kurukshetra

Vision Statement

"Build on Indian ethos and scientific temperament to prepare global leaders from this iconic learning center of the Country."

Mission Statement

Founded in 1912 by Swami Shardhanand Ji with grand vision of inculcating Indian ethos and scientific temperament in the young minds, Gurukul Kurukshetra has been on mission mode ever since its inception to provide public school education from its sprawling 40 Acres campus to create safe, secure, happy and stimulating learning environment to instill honor, respect and compassion in each student and prepare him for success throughout his life.

Governer Himachal Pardesh & Patron of Gurukul Message

गुरुकुल शिक्षा पद्धति व्यक्ति के अज्ञान, दुराग्रह, अहं व दंभ को दूरकर उसकी सुप्त प्रतिभा को जागृत कर ज्ञान-विज्ञान के द्वार खोलकर उसका चहुँमुखी विकास करती है। गुरुकुलीय शिक्षा मानव में विनम्रता, सच्चरित्रता, साहस, स्वाभिमान, लक्ष्य के प्रति दृढ़ता, राष्ट्र के प्रति गौरव, कर्तव्य के प्रति सजगता, सहिष्णुता, करुणा, दया, प्रेम, सेवा व सद्भाव आदि मौलिक गुणों का विकास करती है।

Read-more>>
President Message

संस्कारित शिक्षा की संभावनाओं में राह तलाशना अनेक समस्याओं के समाधान को संभव बनाता है। मैं इसी विश्वास को लेकर अग्रसर हूँ। शिक्षा के क्षेत्र में उच्च जीवन-मूल्यों, महत्वाकांक्षाओं, आस्थाओं तथा संकल्पों का होना अनिवार्य है। जब हम सार्वजनिक जीवन में उतरते हैं, तो सपने एकल नहीं, बल्कि सामाजिक हो जाते हैं। जब हम इस बात को जीवन में आत्मसात् कर आगे बढ़ते हैं, तो चुनौतियाँ आसान हो जाती हैं।

Read-more>>
Colonel Arun Datta Director & Principal

Dear Parents, Gurukul Kurukshetra aspires to empower all educands to succeed in their respective fields. It offers a wide range of enjoyable and successful curricular opportunities , sports activities, performing arts and musical programmes.

Read-more>>